आज का सुविचार पढ़े बेस्ट हिंदी थॉट 

रास्ते कहां खत्म होते हैं? जिंदगी के सफर में? मंजिल तो वहीं है जहां ख्वाहिशें थम जाएँ।।

सच्ची खुशी बांटने पर ही मिलती है, चाहे जीत हो या विचार।।

पाप करना नहीं पड़ता , हो जाता है, पुण्य होता नहीं करना पड़ता है।।

मंज़िलें हमारे करीब से गुज़रती गयी जनाब, और हम औरो को रास्ता दिखाने में ही रह गये।।

जीवन में सबसे बड़ी खुशी, उस काम को करने में है, जिसे लोग सोचते हैं कि, ये तुम नहीं कर सकते हो।।

मजहब तो ये दो हथेलियाँ बताती हैं, जुड़ें तो पूजा, खुलें तो दुआ कहलाती हैं।।