नवरात्रि में मां दुर्गा को पूजा में न करे ये चीज,  माँ होंगी नाराज 

– नवरात्रि में साफ सफाई के बाद घर के द्वार पर हल्दी, कुमकुम से मां के पद चिन्ह बनाएं. दरवाजे के दोनों ओर स्वास्तिक लगाएं.

– मां दुर्गा की पूजा जब भी करें सारी सामग्री अपने पास रख लें, ताकी पूजा में बार-बार उठना न पड़े. बीच पूजा से उठना अच्छा नहीं माना जाता.

– देवी मां की सुबह-शाम आरती करें. नवरात्रि में हर दिन के अलग-अलग रंगों का विशेष महत्व है. साथ ही मां को हर दिन उनकी प्रिय चीजों का भोग लगाएं.

– देवी मां की पूजा ईशान कोण में ही करें. अखंड ज्योति को पूजा स्थल पर दक्षिण-पूर्व दिशा की ओर रखें. कलश स्थापना सिर्फ शुभ मुहूर्त में ही करें.

– अखंड ज्योति में नियमित रूप से घी या तेल डालते रहें. देवी की पूजा के बाद दुर्गा सप्तशती और दुर्गा चालीसा का पाठ और भजन जरूर करें. व्रत का फल तभी मिलता है.

– नवरात्रि में कन्या पूजन विशेष फलदायी माना गया है. अष्टमी या नवमी के दिन नौ कन्याओं की पूजा कर उन्हें भोजन कराएं.